14 October 2010

तराजू के पलड़ो में...

तराजू के पलड़ो में,
रख कर आँसू और मुस्कान
जी रहा है कैसे
यह ज़िंदगी इंसान


Inspired by---

0 comments: